मां दुर्गा को क्यों कहा जाता है आदिशक्ति, जानें

मां दुर्गा को क्यों कहा जाता है आदिशक्ति, जानें

मां दुर्गा को आदिशक्ति कहा जाता है, क्योंकि उनकी शक्तियों का कोई अंत नहीं है. जिस समय समस्त पृथ्वी और स्वयं देवता महिषासुर, मधुकैटभ और शुंभ-निशुंभ जैसे असुरों के आतंक से परेशान थे, तब सृष्टि…

Read More
शनि की किस दृष्टि से लोगों को होती है परेशानी, जानें

शनि की किस दृष्टि से लोगों को होती है परेशानी, जानें

ज्योतिष में सभी नौ ग्रह अपने से सातवें भाव पर पूर्ण दृष्टि रखते हैं, लेकिन अकेला शनि ही ऐसा है जो सातवीं दृष्टि के अलावा तीसरी और दसवीं दृष्टि भी रखता है. इसलिए कहा जाता…

Read More
भीष्म पितामह को अंतिम समय क्यों झेलना पड़ा था कष्ट, जानें

भीष्म पितामह को अंतिम समय क्यों झेलना पड़ा था कष्ट, जानें

व्यक्ति को कर्म के अनुसार ही फल मिलता है. बुरे कर्मों का बुरा परिणाम और अच्छे कर्मों का परिणाम अच्छा होता है. कहते हैं बुरे कर्मों का फल किसी ना किसी जन्म में अवश्य भोगना…

Read More
जटायु और भीष्म पितामह की इच्छामृत्यु में क्या फर्क था, जानें

जटायु और भीष्म पितामह की इच्छामृत्यु में क्या फर्क था, जानें

त्रेता युग में रावण से माता सीता की रक्षा के लिए जटायु ने अपने प्राण त्याग दिए थे. ये वही जटायु थे जिन्होंने रावण की अपार शक्ति को जानते हुए भी उससे युद्ध किया और…

Read More
इस ग्रह के कारण व्यक्ति में नहीं होती साहस की कोई कमी, जानें

इस ग्रह के कारण व्यक्ति में नहीं होती साहस की कोई कमी, जानें

नौ ग्रहों में सेनापति की भूमिका रखने वाले मंगल ग्रह को शक्ति, साहस और पराक्रम का कारक माना गया है. किसी कुंडली में अगर मंगल शुभ स्थिति में है तो व्यक्ति कोई भी बड़े से…

Read More
विवाह पंचमी के दिन करें ये विशेष उपाय, शादी में आने वाली अड़चनें होंगी दूर

विवाह पंचमी के दिन करें ये विशेष उपाय, शादी में आने वाली अड़चनें होंगी दूर

भगवान राम और माता सीता के विवाह का उत्सव यानि विवाह पंचमी इसबार 28 नवंबर को है. हर साल ये उत्सव मार्गशीर्ष महीने की शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है. कहते हैं…

Read More
रविवार के दिन सूर्य देव को ऐसे करें प्रसन्न, बनेंगे हर काम

रविवार के दिन सूर्य देव को ऐसे करें प्रसन्न, बनेंगे हर काम

हिंदू धर्म में सूर्य को विशेष पूजनीय माना गया है. धरती पर ऊर्जा के मुख्य स्रोत होने के कारण इन्हें देवता की संज्ञा दी गई है. वेदों में सूर्य की महिमा को काफी अच्छे से…

Read More
कुंडली में शनि की दो अन्य ग्रहों के साथ युति का क्या होता है असर, जानें

कुंडली में शनि की दो अन्य ग्रहों के साथ युति का क्या होता है असर, जानें

ज्योतिष में ग्रहों की महादशा, अंतरदशा, स्थिति और भाव के अनुसार व्यक्ति में उसका प्रभाव देखने को मिलता है. किसी कुंडली में कोई ग्रह मित्र राशि में बैठने पर शुभ फल और कोई शत्रु ग्रह…

Read More
शनि के किन भावों में होने से मिलता है शुभ फल, जानें

शनि के किन भावों में होने से मिलता है शुभ फल, जानें

शनि की वक्र दृष्टि से हर कोई डरता है, लेकिन ऐसा नहीं है कि शनि हमेशा लोगों के जीवन में परेशानी ही लाएं. शनि न्याय के देवता हैं, इस कारण शनि व्यक्ति को उसके कर्मों…

Read More
जानें गुरू बृहस्पति का कुंडली के विभिन्न भावों में फल

जानें गुरू बृहस्पति का कुंडली के विभिन्न भावों में फल

ज्योतिष में जिस तरह सूर्य को आत्मा और चंद्रमा को मन का कारक माना गया है, उसी तरह बृहस्पति को विद्या और ज्ञान का कारक माना गया है. नौ ग्रहों में बृहस्पति को गुरू की…

Read More